इश्क़ जहाँ हमने लिखा, काग़ज़ वो तूने जला दिया

इश्क़ जहाँ हमने लिखा, काग़ज़ वो तूने जला दिया

फिर से शामें भीग गईं, फिर याद ने तेरी रुला दिया

चल दिया छोड़ के

चल दिया छोड़ के, ऐसे दिल तोड़ के

धीरे-धीरे मुझे तनहाई मार डालेगी

मुझ को ये…

मुझ को ये तेरी बेवफ़ाई मार डालेगी

हाय, मुझ को ये तेरी बेवफ़ाई मार डालेगी

मुझ को ये तेरी बेवफ़ाई मार डालेगी

लगता है मुझे ये, हाय

लगता है मुझे ये जुदाई मार डालेगी

मुझ को ये तेरी बेवफ़ाई मार डालेगी

हाय, मुझ को ये तेरी बेवफ़ाई…

ये तो बता एक पल के लिए भी याद तुझे आई क्या मेरी

ये तो बता एक पल के लिए भी याद तुझे आई क्या मेरी

पिघल रही थी धीरे-धीरे बाँहों में जब तू और किसी की

इतनी आवाज़ें दी, ओ

इतनी आवाज़ें दी, सुन के भी ना सुनी

मुझे तेरी बेपरवाही मार डालेगी

मुझ को ये…

मुझ को ये तेरी बेवफ़ाई मार डालेगी

हाय, मुझ को ये तेरी बेवफ़ाई मार डालेगी

मुझ को ये तेरी बेवफ़ाई मार डालेगी

लगता है मुझे ये, हाय

लगता है मुझे ये जुदाई मार डालेगी

मुझ को ये तेरी बेवफ़ाई मार डालेगी

हाय, मुझ को ये तेरी बेवफ़ाई…

बेवफ़ाई